Flowchart क्या है? Flowchart और Flowchart Symbols की जानकारी

Spread the love

Flowchart क्या है –  जब भी हम Computer के लिए program बनाते हैं तो हमें सबसे पहले प्रोग्राम को बनाने के algorithm or flowchart बनाना होता है ताकि हम इनकी मदद से प्रोग्राम को आसानी से बना पायें और गलती होने पर समस्या को हल कर पायें।
फ्लोचार्ट प्रोग्राम बनाने या किसी समस्या को solve करने के लिए एक ग्राफिकल माध्यम होता है जो प्रोग्रामर के लिए रोडमैप का काम करता है।

Flowchart के जरिये हम किसी भी प्रोग्राम या समस्या को आसानी से बना और हल कर सकते हैं। फ्लोचार्ट समझने में बहुत आसान होता है और इसे किसी अन्य प्रोग्रामर द्वारा भी आसानी से समझा जा सकता।

फ्लोचार्ट्स क्या हैं? (What is Flowcharts?)

प्रोग्राम की किसी भी समस्या के समाधान के लिए ऑपरेशन्स की श्रृंखला का एक ग्राफिकल रिप्रेज़ेन्टेशन को ही हम फ्लोचार्ट कहते है। फ्लोचार्ट्स में विभिन्न आकृति के बॉक्सेज का उपयोग होता है जिनकी मदद से हम किसी भी प्रोग्राम या समस्या के समाधान के लिए flowchart बना सकते हैं।
इन सिंबल का प्रयोग इसलिए किया जाता है ताकि हम फ्लोचार्ट में अलग-अलग तरह के निर्देशों को दर्शा सके। वास्तविक निर्देशों को इन बॉक्सेज के भीतर स्पष्ट और संक्षिप्त स्टेटमेंट्स का इस्तेमाल करके लिखा जाता है। जिससे अन्य programmer भी आसानी से flowchart को समझ पाता है।
इन boxes को lines से जोड़ा जाता है जिन्हें हम arrow marks कहते हैं। जो प्रोग्राम के ऑपरेशन फ्लो की ओर इशारा करते हैं, अर्थात् वास्तविक क्रम जिसमें program बनाते समय निर्देश संचालित होंगे।

Beginners के लिए यह खासतौर पर बताया जाता है कि उन्हें सबसे पहले फ्लोचार्ट ही draw करना चाहिए ताकि प्रोग्राम बनाते समय किसी तरह की गलती न हो या कोई step छूटे नहीं।

इसके अलावा, यह अच्छी प्रैक्टिस है कि फ्लोचार्ट को एक प्रोग्राम के साथ-साथ ही लिख लिया जाए क्योंकि एक फ्लोचार्ट प्रोग्राम की टैस्टिंग एवं मॉडिफिकेशन के लिए मददगार होता है। जिससे प्रोग्राम में गलती होने पर program को आसानी से modify किया जा सकता है।

Flowchart में कम्प्यूटर प्रोग्राम के सभी steps starting point से लेकर program के ending point तक का वर्णन होता है।

फ्लोचार्ट सिंबल्स – Flowchart Symbols In Hindi

एक फ्लोचार्ट में आवश्यक ऑपरेशन्स को दर्शाने के लिए कुछ सिंबल्स जरूरी हैं। ये सिंबल्स अमेरिकन नेशनल स्टैंडर्ड्स इंस्टीट्यूट (ANSI) द्वारा स्टैंडर्डाइज्ड किए जाते हैं। और जब भी हम flowchart बनाते हैं तो इन symbols का ही प्रयोग करते है।

 

Start/End Symbol- इस Symbol का प्रयोग Flowchart को शुरू करने के लिए एवं खत्म करने के लिए किया जाता है।

Flow Lines (Arrows)- Flow lines का प्रयोग Flowchart किस दिशा में या फिर किस क्रम मे जा रहा है, यह जानने के लिए किया जाता है।

Input/Output- Input/Output Symbol का प्रयोग फ्लोचार्ट में डाटा को इनपुट कराने और आउटपुट को दर्शाने के लिए किया जाता है।

Process- Process Symbol का प्रयोग फ्लोचार्ट में data को process करने के किया जाता है। process box में हम program में होने वाले जोड़, घटा, गुणा करना और भाग करना आदि के लिए करते हैं।

Decision- Decision Symbol का प्रयोग जब फ्लोचार्ट में किसी condition को दिखाना होता है, तब हम इस चिन्ह का प्रयोग करते है।

इनके आलवा भी flowchart में ओर भी बहुत से symbols होते हैं लेकिन उन symbols का अधिकतर प्रयोग advanced programmers द्वारा किया जाता है।

फ्लोचार्टिंग के नियम – Flowcharting Rules

Flowchart बनाते समय किसी भी प्रोग्रामर को कुछ नियमों के बारे में जानकारी पता करनी होती है-
  • पहले मुख्य लॉजिक सोचो, फिर flowchart में डिटेल्स डालो।
  • फ्लोचार्ट में सभी डिटेल्स को डालना जरूरी नहीं होता है क्योंकि एक रीडर जो ज्यादा डिटेल्स में इंट्रेस्टेड होगा, वह प्रोग्राम को ही रेफर कर लेता है।
  • फ्लोचार्ट सिंबल्स में लिखे गए सभी स्टेटमेंट्स संक्षिप्त और आसानी से समझ में आने वाले होने चाहिए।
  • फ्लोचार्ट में नामों और वैरिएबल का इस्तेमाल करते समय स्थिरता का भी ध्यान रखना चाहिए।
  • फ्लोचार्ट बनाते समय बाएँ से दाएँ और ऊपर से नीचे की ओर चलना चाहिए, जिससे flowchart को programmer द्वारा आसानी से समझा जा सके।
  • फ्लोचार्ट को सरल रखें। फ्लो लाइन्स एक-दूसरे को काटें नहीं इस बात का भी ध्यान रखें।

Flowchart के इन नियमों को follow करके beginners भी आसानी से program के लिए flowchart बना सकते हैं।

आज आपने सीखा

इस पोस्ट में हमने आपको Flowchart Kya Hai और Flowchart Symbols के बारे में जानकारी दी है। इस पोस्ट को पढ़कर आप भी program बनाने के लिए आसानी से flowchart बना सकते हैं अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप comment करके जरूर बतायें।

इन्हे भी पढ़े –


Spread the love

Leave a Comment